Friday, July 10, 2015

बड़ा अजीब सा मंझर है ये मेरी जिन्दगी की उलझन का


बड़ा अजीब सा मंझर है ये मेरी जिन्दगी की उलझन का 
गहरी ख़ामोशी में डूबा हुआ है सजर ये मेरे अपनों का 

सिले होठों के भीतर तूफानों की सरसराहट से टूटते सब्र 
लगता है जहर बो दिया हो किसीने अपने अरमानों का 

आवाजों को निगलते मेरी बातों के अंजाम का खौफ 
खुली हवाओं में घुला हो जहर तहजीब व् सलीकों का 

जीने का हुनर सीखते २ रूठ गयी है जिन्दगी मुझसे 
शिद्दत से महसूस कर रहा हूँ मै घुटन जंजीरों का 

आपनो से इतनी नफरत कि बस भाग जाऊकही 
शिकायत किसी से नही बोझ हैं चाहत के अपनों का 

...........डॉ आलोक त्रिपाठी (२०१५)