Sunday, April 28, 2019

दिल को कईयों में तक्सीम करने का मौसम आया



चाहत को जब से किश्तों में निभाने का चलन आया 
यकीनन मोहब्बत से तौबा करने का मौसम आया 

जमाना घुटन महसूस करने लगा किसी एक के साथ में 
गजब की दुनिया ये, बरसात में प्यासे मरने का मौसम आया 

हम तो किसी एक की चाहत में फना होना ही समझ आया 
पर उसने चाहत को कई चेहरे में बाटने का मन बनया है  

फिर कभी तफ्सील से लिखूंगा फायदे नुकसान का हिसाब
 फ़िलहाल तो उनकी शर्तों में सर झुकाने का मौसम आया

सारी मुश्किलें तो सुलझा लिए फ़क्त एक सवाल के सिवाय 
एक दिल को कईयों के बीच तक्सीम करने का मौसम आया 

डॉ आलोक त्रिपाठी २०१९ 



No comments:

Post a Comment